sonipat gohana news

ड्रेन ओवरफ्लो होने से 280 एकड़ में फसलें डूबी

गोहाना ब्रेकिंग न्यूज़ विशेष सोनीपत

गोहाना : दक्षिण हरियाणा के जिलों में अधिक बारिश होने के चलते उस हिस्से का पानी नहरों से गोहाना में ड्रेनों में छोड़ दिया गया है। गोहाना में 4000 हजार क्यूसिक क्षमता की ड्रेन नंबर आठ में 4300 क्यूसिक पानी छोड़ दिया गया। इससे ड्रेन नंबर आठ में आकर मिलने वाली लिक ड्रेनों से पानी ओवरफ्लो होकर खेतों में भर गया है। गोहाना में तीन गांवों में करीब 280 एकड़ में फसलें जलमग्न हो गईं। गोहाना शहर के साथ के खेतों में बड़े हिस्से में पानी भर गया है, जिससे शहर के लोगों की चिता बढ़ गई है। ड्रेन में और अधिक पानी छोड़े जाने से गोहाना शहर के लिए भी खतरा हो सकता है।

दक्षिण हरियाणा के कई जिलों में जेएलएन नहर और भालौठ ब्रांच से पानी पहुंचता है। ये दोनों गोहाना से होकर गुजरती हैं। दक्षिण हरियाणा में झज्जर, रेवाड़ी, नारनौल व महेंद्रगढ़ में अधिक बारिश हुई, जिससे वहां सिचाई के लिए पानी की जरूरत नहीं है। दक्षिण हरियाणा में जाने वाली जेएलएन नहर और भालौठ ब्रांच के हिस्से के करीब दो हजार क्यूसिक पानी को गोहाना में ड्रेन आठ में छोड़ दिया गया है। इसके अलावा अंटा हेड व दूसरी जगह से ड्रेन आठ में करीब 23 सौ क्यूसिक पानी छोड़ा गया है। इस ड्रेन में क्षमता से 300 क्यूसिक अधिक पानी छोड़ा गया है। ड्रेन आठ में आकर मिलने वाली लिक ड्रेन तीन से पानी ओवरफ्लो हो गया। इससे शहर से सटे महमूदपुर रोड के पास के क्षेत्र और गांव महमूदपुर के खेतों में करीब 180 एकड़ में फसलें जलमग्न हो गई हैं। मिट्टी का कटाव होने से ड्रेन की पटरी टूट गई। वहीं गांव मोई के निकट जेएलएन नहर व भालौठ ब्रांच से डायवर्जन ड्रेन आठ में पानी छोड़ा गया है, इससे डायवर्जन ड्रेन ओवरफ्लो हो गई। इस पानी से गांव मोई हुड्डा व गांव पूठी में करीब 100 एकड़ में फसलें जलमग्न हो गईं। वहीं गांव आहुलाना के निकट भी ड्रेन से पानी ओवरफ्लो होकर खेतों में भर गया। बरोदा हलका से कांग्रेस विधायक इंदुराज नरवाल और एसडीएम प्रदीप कुमार ने मौके पर पहुंचकर जायजा लिया और सिचाई विभाग के अधिकारियों को पानी की निकासी के निर्देश दिए।

विधायक ने व्यवस्था पर उठाए सवाल

विधायक इंदुराज नरवाल ने व्यवस्था पर सवाल उठाए। उन्होंने कहा कि ड्रेनों की क्षमता कम होने के बावजूद उनमें अधिक पानी छोड़ा गया। गोहाना व बरोदा में अब तक बहुत कम बारिश हुई है। ड्रेन आठ में पानी रोकने के लिए लगाए गए उपकरण क्षतिग्रस्त होने की संभावना पैदा हो गई है। अधिक बारिश होने पर गोहाना में बाढ़ आ सकती है। ड्रेनों की समय पर सफाई नहीं करवाई गई। विधायक ने एसडीएम प्रदीप कुमार व सिचाई विभाग के एक्सईएन मनदीप गुलिया से कहा कि ड्रेनों की पटरियों को मजबूत किया जाए और खेतों से पानी की निकासी करवाई जाए। विधायक ने जलभराव से प्रभावित फसलों की गिरदावरी करवाने और किसानों को प्रति एकड़ 50 हजार मुआवजा देने की मांग की।

कहीं 1995 जैसे हालात ने बन जाएं

गोहाना में 1995 बाढ़ ने तबाही मचाई थी। तब भी ड्रेन आठ में अधिक पानी छोड़ा गया था। शहर के बाहरी हिस्सों में घरों व खेतों में पानी भर गया था। करीब 15 दिन के लिए लोगों को अपने घर छोड़ने पड़ गए थे। अब ड्रेन में आए अधिक पानी से लोग उसी मंजर को याद कर रहे हैं।

दक्षिण हरियाणा में बारिश अधिक होने के चलते गोहाना में पानी को ड्रेनों में छोड़ना पड़ा। ड्रेन आठ में आकर मिलने वाली लिक ड्रेनों से पानी ओवरफ्लो हुआ है। अधिकारियों से बातचीत करके पानी को रुकवाया जा रहा है।

– मनदीप गुलिया, एक्सईएन, सिचाई विभाग गोहाना

Source

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *