school open only 50 percent of the students were called only 30 to 40 percent of them reached

स्कूल ओपन:50 फीसदी ही विद्यार्थी ही बुलाए गए, उसके 30 से 40 प्रतिशत ही पहुंचे, 3 घंटे हुई पढ़ाई

ब्रेकिंग न्यूज़ विशेष शिक्षा सोनीपत

कोरोना की दूसरी लहर के बाद 9वीं से 12वीं तक खुले स्कूलों में पहले दिन कहीं 30 तो कहीं 40 प्रतिशत ही बच्चे पहुंचे। ग्रामीण क्षेत्र के सरकारी स्कूलों में हाजिरी कम रही जबकि शहरी क्षेत्र में बच्चों को हाजरी अच्छी रही। शहरी क्षेत्र में दस प्रतिशत ग्रामीण क्षेत्र में 15 प्रतिशत बच्चे ऐसे भी हैं जिनके परिजनों की अभी सहमति नहीं मिली है या फिर वे स्कूल में पहले दिन नहीं पहुंचे।

जिले के स्कूलों में 9वीं से 12वीं तक राजकीय स्कूलों में करीब 55 हजार तो अराजकीय स्कूलों में करीब 40 हजार विद्यार्थी हैं। इन्हें 50 प्रतिशत की रेशो में स्कूल बुलाया जा रहा है। कुछ बड़े स्कूलों ने बच्चों की अधिकता के हिसाब से दो शिफ्टों में भी बच्चे बुलाए हैं।

स्कूलों में एक दिन पहले ही कोविड नियमानुसार कक्षाएं लगाने की तैयारी की थी। कुछ स्कूलों ने बबल जोन भी बच्चों के सेक्शन और रोल नंबर अनुसार बनाए। इसमें बच्चों का स्कूल में दायरा तय किया गया कि वे अपने जोन के ही में रहेंगे। स्कूल के इंट्री गेट पर ही थर्मल स्क्रीनिंग हुई। बच्चों को लाइनों में ही इंट्री दी गई और तीन घंटे तक ही पढ़ाई हुई। सभी बीईओ ने भी स्कूलों के निरीक्षण कर व्यवस्था जांची।

सरकारी स्कूलों में संख्या रही कम, निजी स्कूलों में 40 प्रतिशत तक हुई हाजिरी, 10% अभिभावकों के अभी नहीं मिले सहमति पत्र

अभिभावकों को भेजा गया सहमति पत्र

शिक्षा विभाग की ओर से स्कूल में पढ़ाई को लेकर अभिभावकों के पास सहमति पत्र ऑनलाइन रूप से भिजवाए गए हैं। अभिभावक को तय करना है कि वे बच्चे को ऑनलाइन पढ़ाएंगे अथवा स्कूल भेजेंगे।

शहर में 10 और ग्रामीण क्षेत्र में 15 प्रतिशत बच्चे ऐसे हैं जिनके अभिभावकों का सहमति पत्र नहीं मिला है। हालांकि शुक्रवार होने की वजह से भी काफी बच्चे नहीं आए और सोमवार से ही रेगुलर कक्षाएं लगाने का मन उन्होंने बनाया है। फिर भी औसत अनुसार अच्छी संख्या बच्चों की रही।

गांव में ऑनलाइन सिस्टम बेहतर नहीं

इस बार स्कूल जुलाई में खुल रहे हैं। राजकीय स्कूलों में नियमित रूप में करीब 30 प्रतिशत विद्यार्थियों की हाजिरी लगी ही नहीं। अब सिलेबस का बोझ नहीं हो इसके लिए स्कूल को खोला जा रहा है, जिससे पढ़ाई को लेकर विद्यार्थी जवाबदेह हो सकें। बड़े निजी स्कूलों ने अच्छे ऑनलाइन माध्यम से सिलेबस कवर करवाया लेकिन कई जगह ऑनलाइन पढ़ाई के नाम पर बच्चों को महज होमवर्क भेजा गया।

बच्चों में उत्साह, सोमवार से बेहतर होगी पढ़ाई

शिक्षा विभाग की हिदायतों अनुसार स्कूल खोले गए हैं। हर स्कूल में जरूरी व्यवस्था के लिए पहले ही तैयारी करने के निर्देश दिए गए थे। पचास फीसदी बच्चे बुलाए गए थे। इनमें औसत 40 प्रतिशत तक हाजिरी हुई। सभी बीईओ से कहा गया है, जहां लापरवाही बरती जाएगी, उसके प्रति विभागीय नियमानुसार कार्रवाई हाेगी। बच्चों में उत्साह दिखा है। सोमवार से और ज्यादा संख्या होगी। -नवीन गुलिया, डिप्टी डीईओ।

ग्राउंड रिपोर्ट : रामनगर में 2, मॉडल संस्कृति स्कूल में 227 बच्चे पहुंचे

रामनगर के राजकीय स्कूल में सबसे कम 2 बच्चे पहुंचे। यहां करीब 100 बच्चे हैं। राजकीय मॉडल संस्कृति में सबसे ज्यादा 227 बच्चें पहुंचे है। सोनीपत शहर के शिवा शिक्षा सदन स्कूल में दो शिफ्ट में सभी बच्चे बुलाए गए। संख्या अनुसार 67 प्रतिशत हाजिरी रही। ऐसे ही बड़े स्कूल दो शिफ्ट में सुबह और दोपहर को बच्चों को बुला रहे हैं। मुरथल अड्‌डा राजकीय कन्या स्कूल में भी हाजिरी अच्छी रही।

एसओपी ये है

  • एक कक्षा में 20 से अधिक विद्यार्थी नहीं बैठेंगे
  • एंट्री से पहले विद्यार्थियों को थर्मल स्कैनिंग और तापमान की जांच होगी
  • छुट्टी होने के बाद स्कूल के अलग-अलग मुख्य द्वार से विद्यार्थी निकलेंगे। इसके लिए शिक्षक ड्यूटी पर रहेंगे।
  • विद्यार्थियों को पानी की बोतलें घर से लानी होगी
  • विद्यार्थियों को खाना लाने की इजाजत नहीं होगी।

Source

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *