sonipat news hindi

चाइनीज से जी चुराए,स्वदेशी सामान ही मन भाए

सोनीपत

सोनीपत : दीपावली नजदीक आते शहर के बाजार गुलजार हो गए हैं। बाजार स्वदेशी आइटम से अटे हैं। लोग स्वदेशी पर जोर दे रहे हैं, जिसके चलते दुकानदार भी इस बार स्वदेशी आइटम की अलग से स्टाल लगा रहे हैं। चाइनीज लड़ी की बजाय स्वेदशी लड़ी भी बाजार में खूब बिक रही है। 50 फीट की 40 बल्ब वाली लड़ी की कीमत 150 रुपये तक है। वहीं, दीपावली पर लोग घरों को सजाने के लिए सजावट के सामान खरीद रहे है। मिट्टी से बने सजावट के सामान की भी डिमांड है। वहीं, सर्राफा, इलेक्ट्रानिक और बर्तन की दुकानों में खरीदारों की अच्छी खासी संख्या दिखने लगी है। आने वाले दिनों में वाहनों की बिक्री में भी उछाल आने की उम्मीद है। लंबे समय से सुस्ती छाए रहने के बाद अब बाजार में उत्साह का माहौल है।

कोरोना संकट के दौरान पिछले बार त्योहारी सीजन में भी बाजार से रौनक गायब रही, लेकिन महामारी के नियंत्रण में आने के बाद इस साल बाजार में चहल-पहल है। व्यापारी ग्राहकों को आकर्षक स्कीम और छूट दे रहे हैं। आटोमोबाइल, इलेक्ट्रानिक और प्रापर्टी बाजार में जानकारी लेने वालों की संख्या बढ़ी है। लोग शुभ मुहूर्त में खरीदारी के लिए लोग अग्रिम बुकिग करवा रहे हैं। कच्चे क्वार्टर मार्केट एसोसिएशन के प्रधान राकेश चोपड़ा का कहना है कि लंबी सुस्ती के बाद बाजार में इस बार रौनक देखने को मिल रही है। इस बार बाजार पहले से बेहतर है। ठप पड़ा कारोबार शुरू हो चुका है। धनतेरस और दीपावली इस बार अच्छी बिक्री होने की उम्मीद है।

दीयों और मूर्तियों की मांग, कारीगरों के चेहरे पर मुस्कान :

बाजार में तरह-तरह के आकृतियों से बने दीये ग्राहकों को लुभा रहे हैं, जिससे मिट्टी के दीये बनाने वाले कारीगरों के चेहरों पर मुस्कान नजर आ रही है। दीये बनाने वाले कारीगर दीपावली के त्योहार को लेकर दो माह पहले ही दीये व अन्य सामान बनाने में जुट जाते हैं। जो दीपावली तक लगे रहते हैं ताकि ज्यादा से ज्यादा दीयों से आय हो सके। हालांकि, दीपावली के पर्व पर लक्ष्मी पूजन में मिट्टी के दीये का ही महत्व होता है।

सर्राफा व क्राकरी बाजार में उत्साह :

जैनसंस ज्वेलर्स के संचालक बसंत जैन ने बताया कि दीपावली के साथ-साथ लोग शादी के लिए भी खरीदारी कर रहे हैं, कोरोना के चलते विवाह आयोजन करने से लोग बच रहे थे। अब सामान्य स्थिति हुई तो इसका अच्छा प्रभाव सर्राफा बाजार पर भी देखने को मिल रहा है। दीपावली पर उपहार देने का चलन है। लोग क्राकरी का सामान देना ज्यादा पसंद करते है। वहीं, लोग दीपावली पर किचन की सजावट करने के लिए क्राकरी का सामान खरीदते है, जिसके चलते क्राकरी से लेकर अन्य सामान की बिक्री भी बढ़ रही है।

लापरवाही ठीक नहीं, लोगों ने मास्क से बनाई दूरी :

इन दिनों लोगों ने मास्क से भी दूरी बना ली है। अब तो दुकानदार और ग्राहक दोनों ही मास्क नहीं लगा रहे हैं। बाजार में आने वाले इक्का-दुक्का लोग ही मास्क लगा रहे हैं। हालांकि, अब जिले में कोरोना से संक्रमित मरीज नहीं आ रहे हैं, लेकिन सावधानी बरतना अभी जरूरी है। अधिकारी भी मास्क पहनने व कोरोना से बचाव के अन्य उपाय करने की अपील कर रहे हैं।

Source

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *