ठगों का शिकार बने जेल DSP:कस्टमर केयर वाला बन डेबिट कार्ड की जानकारी ली, ऐनी डेस्क ऐप डाउनलोड करवा लगाया चूना

टैकनोलजी ब्रेकिंग न्यूज़ विशेष सोनीपत

हरियाणा के पानीपत जिले की जेल के डीएसपी से साइबर ठगों ने ठगी कर ली। ठगों ने डीएसपी से कस्टमर केयर कर्मचारी बनकर धोखाधड़ी की है। डीएसपी से पहले उनके फोन में एनी डेस्क ऐप डाउनलोड करवाई गई। इसके बाद झांसे में लेकर डेबिट कार्ड की जानकारी ली। जानकारी लेने के बाद ठगों ने तीन मिनट में कुल 43 हजार रुपए की चपत डीएसपी को लगा दी।

यूं लिया डीएसपी को झांसे में

पानीपत की सेक्टर 29 थाना पुलिस को दी शिकायत में जोगिंद्र देशवाल ने बताया कि वह पानीपत जेल में बतौर डीएसपी नियुक्त हैं। 2 नवंबर को वह अपने कार्यालय में बैठे थे। उन्होंने अपने एक मित्र को पेटीएम के जरिए रुपए भेजे थे। उक्त राशि दोस्त को नहीं मिली तो उन्होंने गूगल से SBI का कस्टमर केयर नंबर निकाल कर जानकारी लेने का प्रयास किया। संपर्क के दौरान कथित कस्टमर केयर वालों ने एक नंबर देकर उस पर बातचीत करने को कहा।

इसी कॉल के तुरंत बाद एक नंबर से कॉल आई, जिसने गूगल प्ले से ऐनी डेस्क ऐप डाउनलोड करने को कहा। बातचीत के दौरान उक्त ठग ने डेबिट कार्ड की जानकारी भी ले ली। जानकारी देने के कुछ ही देर बाद ही खाते से दोपहर लगभग 12:15 से 12:18 तक तीन बारी में क्रमश: 14247.80 , 14688.21 व 14688.21 रुपए ठग ने अपने खाते में ट्रांसफर कर लिए। ठग ने कुल 43 हजार रुपए ट्रांसफर किए।

ऑटो स्टोर मालिक के खाते से निकाले 1.34 लाख
8 मरला कालोनी के अनिल चुघ ने पुलिस को शिकायत दी कि उन्होंने ताज ऑटो स्टोर नाम से सेक्टर 11-12 में दुकान कर रखी है। एक ग्राहक आया और 2800 रुपए का सामान लेकर फोन-पे से पेमेंट कर दी। फोन-पे पर पेमेंट का मैसेज नहीं आया तो उन्होंने गूगल पे पर कस्टमर केयर का नंबर लिया। कॉल किया तो डिस्कनेक्ट हो गया। इसके बाद दूसरे नंबर से कॉल आया और 23 मिनट तक कस्टमर केयर कर्मचारी समझकर बात की।

इसके बाद ठग ने लिंक भेज कर उनसे क्लिक करा लिया और फोन काट दिया। इसके बाद ठग ने 14 मिनट बात की और उनसे लिंक पर क्लिक कराया। ओटीपी नंबर भी पूछ लिया। इसके बाद उनके एसबीआई के खाते से 1.20 लाख रुपए कट गए। इसके बाद उनके केनरा बैंक के खाते से 14 हजार रुपए भी कट गए। उनसे 1.34 लाख रुपए की ठगी कर ली गई। सेक्टर 11-12 चौकी पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है।

Source

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *